Deprecated: ltrim(): Passing null to parameter #1 ($string) of type string is deprecated in /home/b66iw6vgpr80/public_html/wp-includes/formatting.php on line 4369
sad gazal hindi

Sad Ghazal Hindi-बैसे तो दूर दूर तक नज़र आते हैं खुशी के मंज़र.

sad gazal
Sad Ghazal Hindi

Sad Ghazal Hindi

Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu
Jo dil or labo ke darmiyaan dabi hai vo baat kr leta hu

Baise to door door tak nazar Aate hai khushi ke manzar
Lekin jaate jaate apni nigaaho me tere nigaho ki barsaat kar leta hu

Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu

Aata dekh mujhe tu apne dar ke kareeb
Aye sanam sikan na dAal apne maathe pe

Main apne sath is din ko raat kar leta hu

Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu.

Chalte chalte jo kabhi thokar lage
Door door tak koi nazar naa Aaye
Aise alaam me main tujhe khud ke sath kar leta hu

Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu

Beshaq fakeeri me rahe guzar hai meri
Kuch nhi mere pass
Dikhe koi fakeer tere naam ki zakaat kar leta hu

Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu

Teri Sookhi ke khyaal me damn-e-mahevoob ki Arzoo hoti hai
Main apni is tamanna-e-bahaar ko Asaar-e-yrr me irshad kar leta hu
Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu.

Main apni taqdeer ko mita ke tere dar pe jhuka deta hu
Jab tu guzarta hai rakh ke unpe kadam maine khud he Apni khwahishon ki jihaat kar leta hu

Sad Ghazal Hindi

Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu.

Jab tu hume apni mahefil me bulake Saare Aam badnaam karta hai
Main teri masoomiyat ki farebi baato ko yaad karke sab bardasht kar leta hu
Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu.

Hote hai jo hum pe sitam likhta hu main unki arzziya khuda ko
Teri naadniya dekh kar sab barkhast kar leta hu
Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu.

Teri makhmali panaho me jo kabhi bitaye the kuch rehnuma lamhe
Talab-e-khash me unko main jeenat-e-hayaat kar leta hu
Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu.

Jab zikr hota hai ishq ke maaro ki jamaat me shahnaz-e-yrr ka
Main tere naam ki bade he ehtraam se sifaat kar leta hu
Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu.

Aye jahaan walo ab kya btaye raaz-e-jehd “Rehaan”
Maut ke dar se Qatil se he apni baraat kar leta hu
Aaj lafz kam pad gye socha tumse mulakaat kar leta hu.

sad gazal in hindi

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं
जो दिल लबो के दरमियान दबी है वो बात कर लेता हूं

बैसे तो दूर दूर तक नज़र आते हैं खुशी के मंज़र
लेकिन जाते जाते अपनी निगाहो में तेरे निगाहों की बरसात कर लेता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

आता देख मुझे तू अपने दर के करीब
ऐ सनम सिकन न डाल अपने माथे पे

मैं अपने साथ दिनों को रात कर लेता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

चलते चलते जो कभी ठोकर लगे
दूर दूर तक कोई नज़र ना आए
ऐसे आलम में मैं तुझे खुद के साथ कर लेता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

Khubsurat nazam

बेशक फकीरी में रहगुजर है मेरी, कुछ नहीं मेरे पास
देख कोई फकीर तेरे नाम की ज़कात कर देता हूँ

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

तेरी सोखी के ख्याल में दामन-ए-महवूब की आरजू होती है
मैं अपनी इस तमन्ना-ए-बहार को असर-ए-यार में इरशाद कर लेता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

मैं अपनी तकदीर को मिटा के तेरे दार पे झुका देता हूं
जब तू गुजरता है रख के उन पे कदम मैं खुद ही अपनी ख्वाहिशों की जिहात कर लेता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

जब तू हमें अपनी महफिल में बुलाके सारे आम बदनाम करता है
मैं तेरी मासूमियत की फरेबी बातो को याद करके सब बरदाश्त कर देता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

होते हैं जो हम पे सिताम लिखता हूं मैं उनकी अर्जिया खुदा को
तेरी नादानिया देख कर सब बरखास्त कर लेता हुआ

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

तेरी मखमली पनाहो में जो कभी बिता दिए कुछ रहनुमा लम्हे
तलाब-ए-खाश में उनको मैं जीनत-ए-हयात कर देता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

जब ज़िक्र होता है इश्क के मारो की जमात में शहनाज़-ए-यार का
मैं तेरे नाम की बडे ही एहतराम से सिफात कर लेता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

ऐ जहान वालो अब क्या बोले राज-ए-जेहद “रेहान”
मौत के डर से कातिल से ही अपनी बारात कर लेता हूं

आज लफ्ज कम पड़ गए सोचा तुमसे मुलाक़ात कर लेता हूं

Also Read:

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।

viralwings.in

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Alone shayari in hindi Previous post Alone shayari in hindi | आ जाओ ना दिल बहुत उदास है|
Next post कैसे लिखें शायरी | 5 tips for you in just 10 minutes | you can write.