Deprecated: ltrim(): Passing null to parameter #1 ($string) of type string is deprecated in /home/b66iw6vgpr80/public_html/wp-includes/formatting.php on line 4369
narazgi shayari

Narazgi Shayari in Hindi-सीने से लग के भला जुदा कौन होता है

narazgi shayari in hindi / naraazgi shayari / narazgi shayari in urdu / narazgi poetry

Hindi shayari पढ़ें उर्दू की शायरी हिंदी में, आपको यहाँ बहुत सी शायरी पढ़ने को मिलेगी जैसे- sad shayari , romantic shayari, bewafa shayari. आप हमारी शायरी को अच्छे से पढ़ने के लिए Instagram पे भी पढ़ सकते हैं. Because you can read eisly there and share with friends. So are your for read this amazing hindi shayari? let’s start! Read Shushant Singh Rajput’s life’s poetry.

narazgi shayari
narazgi shayari ? narazgi shayari in urdu / narazgi poetry

Seene se lag ke bhala judaa kaun hota hai
Is tarah bhi akhir be-wafa kaun hota hai

Jaate jaate bhi mange haq me hamare duaa
Aisa bhi yaar aisa humnava kaun hota hai

pucha haal de ke kasam badha di bechaini
Bolte bolte aise chhup bhala kaun hota hai

Ankho se keh gye vo raaz sabhi apne dil ke
Sab bol ke bhi aisa bezubaa.n kaun hota hai

narazgi shayari in hindi

narazgi shayari in hindi

सीने से लग के भला जुदा कौन होता है,
इस तरह भी आखिर बेवफ़ा कौन होता है।

जाते जाते भी मांगे हक में हमारे दुआ,
ऐसा भी यार ऐसा भी हमनवा कौन होता है।

पूछा हाल दे के कसम बढ़ा ली बेचैनी,
बोलते बोलते ऐसे छुप भला कौन होता है।

आंखों से कह गए वो राज अपने दिया के,
सब बोलके भी ऐसे बे-जुबां कौन होता है।

If you want to write poetry like Gazal, Nazm, Shayari/Rubaai and Sher you can write easily with us “Urdu Formats”  So are you ready to write the best poetry, I hope you can definitely write the best poetry so try and explore a new world. you can also read how to avoid writing mistakes.

Also Read shayari in urdu

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।

4 thoughts on “Narazgi Shayari in Hindi-सीने से लग के भला जुदा कौन होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

yaad shayari in hindi Previous post Yaad Shayari in Hindi-खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके। yaad shayari
ek tarfa pyar shayari in hindi Next post Ek Tarfa Pyar Shayari – 1 tarfa pyar shayari उधार के दिन… इतंजार.