Deprecated: ltrim(): Passing null to parameter #1 ($string) of type string is deprecated in /home/b66iw6vgpr80/public_html/wp-includes/formatting.php on line 4369
love shayari in hindi for girlfriend

Love Shayari in Hindi for Girlfriend-आज नहीं तो मिलेंगे ज़रूर हम कल.

love shayari in hindi for girlfriend / urdu poetry for girlfriend

love shayari in hindi for girlfriend-आज नहीं तो मिलेंगे ज़रूर हम कल. In Hinglish

Likh  rakhi   hai  humne  kahani  ek  mukammal
Jaise  lafzo  se  bana   rakha  ho  koi  taj-mahal

Riyashate Nahin Hai meri ki buniyad majbut Ho
Meri virasat  mein  Hai sirf tere  liye ek ye gazal 

Kahete  hain mere khvab jaa-ba-jaa hu-ba-hu tu
Meri  tasveer ki  parsaai  mere  imaan  ki  nakal 

Tu dur main bhi mazbur mulaqat kaise ho akhir
Waqt  ke   hathon  se   churaye.n   kaise  ye  pal 

Mere khato se he ehsaas Kar meri mauzudgi ka
Aaj  nahin  to  milenge  zarur  hamdam hum kal

Hoshla to kar ek dafa Rehan ka hath thamne ka
Main bhi Apne hathon ki lakeron ko doon badal

Ham sambhal ke bhi  sambhal na sake zara bhi
Bikharte – bikharte   bhi  gaye  tum  to  sambhal

love shayari in hindi for girlfriend
love shayari in hindi for girlfriend / love shayari in hindi for girlfriend

आज नहीं तो मिलेंगे ज़रूर हम कल-In Hindi

लिख  रखी  है  हमने   कहानी   एक  मुकम्मल।
जैसे  लफ़्ज़ों  से  बना  रखा  हो कोई ताजमहल।

रियासत नहीं है मेरी  की  बुनियाद  मज़बूत  हो,
मेरी विराशत में है सिर्फ तेरे लिए एक ये ग़ज़ल।

कहते  हैं   मेरे   ख़्वाब   जा-बा-जा   हु-बा-हू  तू,
मेरी तस्वीर  की  पारसाई  मेरे ईमान की नक़ल।

तू दूर मैं भी मजबूर  मुलाक़ात  कैसे  हो  आखिर,
वक्त  के   हाथों   चुराएं    भला   कैसे   ये  पल।

मेरे खतों से ही  एहसास  कर  मेरी  मौजूदगी का,
आज नही  तो मिलेंगे  ज़रूर  हमदम  हम  कल।

हौसला कर  एक  दफा  रेहान का हाथ थामने का,
मैं  भी  अपने   हाथों  की   लकीरों  को  दूं  बदल।

हम  संभाल  के  भी  संभाल   ना  सके  ज़रा   भी,
बिखरते-बिखरते    भी    गए   तुम   भी   संभल।

Also Read urdu poetry for girlfriend

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।

Follow us on Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Emotional shayari Previous post Emotional Shayari-जिस्म से जान, जान से जिस्म जुदा होते देखना है।
mazboori shayari in hindi Next post Mazboori Shayari in Hindi-अए जान-ए-वफा तुझसे प्यार निभाएं कैसे।