Deprecated: ltrim(): Passing null to parameter #1 ($string) of type string is deprecated in /home/b66iw6vgpr80/public_html/wp-includes/formatting.php on line 4369
chahat shayari in hindi

Chahat Shayari in Hindi -तेरे पीछे मेरी चाहत की दीवानगी ऐसी है|

chahat shayari in hindi / chahat ki shayari

Tere piche meri chahat ki deewangi aisi hai
Tere dedaar se haye ye surat-e-haal kisi hai

Ab   tak  dil  ko  bhaye  kitne   he   chahere
Faqat  jaise  khyaal tu  hu-ba-hu  waisi  hai

Ek  mulaqaat  na sahi ek dafaa  baat  to ho
Choro meri khwaish bhi na baccho jaisi hai

Mujhe to khabar nhi mere haal  ki zara bhi
Tum he ake kaho dewangi meri sacchii hai

Mulaqaat   to  hui, na hui  koi  baat  magar
Chalo ye adhi adhuri mulaqat bhi acchi hai

chahat shayari in hindi
chahat shayari in hindi

chahat ki shayari in hindi

तेरे  पीछे  मेरी चाहत  की दीवानगी ऐसी है|
तेरे दीदार से हाय ये  सूरत-ए -हाल कैसी है|

अब  तक  दिल  को  भाये  कितने  ही  चहेरे,
फ़क़त  जैसे   ख्याल   तू   हु-बा-हु  बैसी  है|

एक मुलाक़ात नहीं तो एक दफा  बात तो हो,
छोड़ो  मेरी  ख्वाहिश  भी  न बच्चो  जैसी है|

मुझे तो  खबर  नहीं  हाल  की  ज़रा  सी  भी,
तुम ही आके  कहो  दीवानगी  मेरी सच्ची है|

मुलाक़ात  तो  हुई,  ना  हुई  कोई बात मगर,
चलो ये आधी अधूरी मुलाक़ात भी अच्छी है|

chahat shayari in hindi
chahat shayari in hindi

Also Read Urdu Gazal In Hindi

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।

viralwings.in

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ummed shayari in hindi Previous post Ummed Shayari in Hindi-उम्मीद तो ना थी मगर ख्वाहिश पूरी हो गई
urdu gazal in hindi Next post Urdu Gazal in Hindi-किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई।