Deprecated: ltrim(): Passing null to parameter #1 ($string) of type string is deprecated in /home/b66iw6vgpr80/public_html/wp-includes/formatting.php on line 4369
breakup shayari

breakup shayari in hindi -जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।

breakup shayari पढ़ें उर्दू की शायरी हिंदी में, आपको यहाँ बहुत सी शायरी पढ़ने को मिलेगी जैसे- sad shayari , breakup sad shayari , romantic shayari, bewafa shayari. आप हमारी शायरी को अच्छे से पढ़ने के लिए Instagram पे भी पढ़ सकते हैं. Because you can read eisly there and share with friends. So are your for read this amazing hindi shayari? let’s start! breakup shayari in hindi

Click Here

जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो। breakup shayari

जब  मेरा मुंसिफ  ही  मेरा  क़ातिल  हो।
तो  सफ़ाई दे  के  भी  क्या  हासिल  हो।

गारत  ना  कर   सके  तेरी  गवाही  हमें,
इतना दिल ज़ख्म उठाने के काबिल हो।

तजकिरा  गूंजे मेरा शहर-शहर में हर सू,
फकत नाम तेरा  भी उसमें  शामिल हो।

मसीहा  मेरे मुद्दई  ना बन इस  कदर तू,
मेरे दर्द से  तो  ना  अब तू  गाफिल  हो।

तेरी वजह  से मेरी जान  पे है  वन आई,
अब जान बनके ना  सामने  नाजिल हो।

खिलाफत  क्यूं  करूं  मैं  तेरे  हुक्म  की, shayari breakup
जब कश्ती का इकलौता तू  साहिल  हो।

तुझे  पसंद है हो  जश्न  मनाना  सनम,
रेहान  के जनाज़े पे सजी महफ़िल   हो। breakup shayari

breakup shayari

Jab Mera Munsif He Mera Qatil Ho- In Hinglish breakup shayari in hindi.

Jab   mera   munsif   he   mera   qatil  ho
To  safaai   de   kar   bhi   kya  hashil  ho

Gaarat  na  kar sake  teri  gawahi  hume
Itna  dil   zakhm uthaane   ke   kabil  ho

Tazkira gunze mera  shaher me har suu
Faqt  naam  tera  bhi  usme  shamil  ho

Masiha mere muddai na ban is kadar tu
Mere  dard  se  to  na   ab  tu  gaafil  ho

Teri wajah se  meri  jaan  pe hai ban aai
Ab  jaan   banke   na   samne   nazil  ho

Khilafat  kyun  krun  main  tere hukm ki
Jab  kashti   ka   iklauta   tu   shahil   ho

Tujhe pasand hai jashn manana  sanam
Rehaan  ke  janaze  pe   sazi  mahfil  ho

breakup shayari
breakup shayari

Also Read shero shayari

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।

Follow us on Instagram

If you want to write poetry like Gazal, Nazm, Shayari/Rubaai and Sher you can write easily with us “Urdu Formats”  So are you ready to write the best poetry, I hope you can definitely write the best poetry so try and explore a new world. you can also read how to avoid writting mistakes. pyar wali shayar


[spbsm-share-buttons]


[spbsm-follow-buttons]

36 thoughts on “breakup shayari in hindi -जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Raat hindi shayari Previous post Raat hindi shayari ek bahut he khubsurat gazal. ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
sad one sided love shayari Next post One Sided Love Shayari in hindi | one sided love quotes in hindi