Gazal

Sad Hindi Shayari- जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।

0 0
Read Time:3 Minute, 36 Second

Sad Hindi Shayari- जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का। sad love shayari

Sad hindi shayari / sad poetry in urdu / sad love shayari

Ek bahut he khubsurat aur one-sided love sad hindi Shayari me. sabse khubsurat gazal. aur heart touching Shayari. If you want to read quick poetry you can read on our Instagram handle. Hindi Shayari If you want to write poetry like Gazal, Nazm, Shayari/Rubaai and Sher you can write easily with us “Urdu Formats”  So are you ready to write the best poetry, I hope you can definitely write the best poetry so try and explore a new world. you can also read how to avoid writing mistakes. Best Of Luck Readers. sad poetry in urdu Read Shushant Singh Rajput’s life’s poetry.

sad hindi shayari
sad hindi shayari / sad poetry in urdu / sad love shayari

Sad Hindi Shayari जिसे बनना ही ना  हो  आख़िर  हमसफ़र  किसी का- In Hindi

जिसे बनना ही ना  हो  आख़िर  हमसफ़र  किसी का।
नमाज़,ताबीज, तश्बी उस पे क्या हो असर किसी का।

वो  बे-ख़बर  अंजान   है   इतनी   सी   बात   से  यारों,
एक उसके ना  आने से वीरान पड़ा है शहर किसी का।

आसमान पे  अब  घटा  घिर  के  बे-जोर  बरसने को है,
बड़ा  बे-आरज़ू,  बे-उम्मीदी  से टूटा है सबर किसी का।

वो जो  जाते-जाते  देख  लें  पलट  के  और मुस्करा दें,
ऐसे में हाल क्या हो, ऐसे  में क्या हो  किसी नज़र का।

बिखरे अल्फाज़, बिखरे हुए हम बेजान सी है जिन्दगी,
जहां से ना रहा कोई रिश्ता इतंजार है मगर किसी का।

साथ रखता वो तो  जुल्म-ओ-सितम  से ही सही मगर,
मीलों-मीलों भटका,  हुआ  परिंदा  दर-बदर किसी का।

मेरी  मुहब्बत के  सुनने  इतने किस्से लोगों ने “रेहान”
बदनाम हो जाएगा वो, नाम जो ले लूं अगर किसी का।

sad love shayari
sad love shayari

Jise banana he na ho in Hingish

Sad Hindi Shayari- जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।

Jise   banana   he   na  ho   akhir   humsafar   kisi   ka
Namaaz,  tabeez,  tashbi  us  pe  kya  ho  asar kisi ka

Vo  be-khabar   anzaan   hai  itni  si  baat  se  yaaron
Ek  uske na  aane  se  veraan  pada hai shaher kisi ka

Asmaan pe ab ghata ghir ke  bejor barashne  ko  hai
Bada bearzuu,  be-ummidi  se  tuta  hai  sabar kisi ka

Vo jo jaate  jaate  dekh  le  palat  ke aur  muskura de
Aise me  kya  haal  ho,  aise  me  kya ho kisi nazar ka

Bikhre alfaaz,  bikhre  hue hum  bejaan  si hai zindagi
jahaa.n se na rha koi rishta, intezaar hai magar kisi ka

Sath  rakhta  vo  to  zulm-o-sitam   se  he  shi  magar
meelo-meelo  bhatka,  hua parinda  dar-badar kisi ka

Meri mohabbat  ke sunane  itne kisse logo ne rehaan
Badnaam  ho  jayega  vo,  naam  jo  le  lu agar kisi ka

sad poetry in urdu
sad poetry in urdu

sad poetry in urdu / sad hindi shayari / sad love shayari

जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का -Sad Hindi Shayari 

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।]

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
100 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

43 thoughts on “Sad Hindi Shayari- जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।

Leave a Reply

Your email address will not be published.