Gazal

Pyar ka Izhaar Shayari-कर ही दिया इज़हार उस से डरते डरते।

0 0
Read Time:1 Minute, 54 Second

pyar ka izhaar shayari / izhaar shayari Read more / Read Shushant Singh Rajput’s life’s poetry.

Tasveer se ahad-e-wafa rakhte rakhte
Thak gye hum uski raah takte takte

Haye uski wo nadaani kitni masoom si
Rukh se uth gya naqaab dhakte dhakte

Koi to raaz tha dafn uske dil me zarur
Ro di.n uski ankhe jo hashte hashte

Samjhta tha hu bahut bad-naseeb main
Mit gye shikwe sab use samjhte samjhte

Nadaani samjho ke, gustakhi hamari
Kar he diya izhaar us se darte darte

Wo na aaye meri raah to main he chalu
Doon paigam- e -dil guzarte guzarte

pyar ka izhaar shayari
pyar ka izhaar shayari

कर ही दिया इज़हार उस से डरते डरते। – pyar ka izhaar shayari

तस्वीर से एहद-ए-वफ़ा रखते रखते।
थक गए हम उसकी राह तकते तकते।

हाय उसकी वो नादानी कितनी मासूम,
उठ गया रूख़ से नक़ाब ढकते ढकते।

कोई तो राज़ था दफ़न उसके दिल में,
रो दीं जो उसकी आंखे हंसते हंसते।

सोचता था हूं बहुत बदनसीब मैं,
मिट गया शिकवे उसे समझते समझते।

नादानी समझो के गुस्ताखी हमारी
कर ही दिया इज़हार उस से डरते डरते।

वो ना आएं मेरी राह तो मैं ही चलूं,
दूं पैगाम-ए-दिल उन्हें गुजरते गुजरते।

pyar ka izhaar shayari

Also Read Urdu Gazal In Hindi

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

4 thoughts on “Pyar ka Izhaar Shayari-कर ही दिया इज़हार उस से डरते डरते।

Leave a Reply

Your email address will not be published.