poetry

Mother’s Day Poetry – माँ शायरी Poem – Mother day Shayari in Hindi

Mother’s Day Poetry – माँ शायरी Poem – Mother day Shayari in Hindi

mothers day shayari / mothers day Poem
mothers day shayari

आया तेरे बाद मैं जहां में दुआ यही है तुझसे पहले जाऊं।
तेरी ख्वाहिश को तेरी ही दुआ से तेरी हथेली पे मैं सजाऊं।

मां मैं बहुत थक गया हूं इस दुनिया से लड़ते लड़ते,
जी में आता है सर रख कर तेरी गोद में में सो जाऊं।

मां इस जवानी ने कितना दूर कर दिया मुझे तेरी कुरबत से,
कभी कभी दिल करता है बनके बच्चा तेरे दामन में फिर से खिल -खिलाऊं।

तेरे दम से ही तो रौशन घर का कोना कोना है।
तुझे खोना जैसे जिन्दगी को खोना हैं।

हो सुबह मेरी तेरे चहरे से हर रोज,
हर शाम तेरे कदमों में ही मिट जाऊं।

आज ऐसा लगा जैसे मैं जन्नत से किसी गांव में हूं
तेज़ धूप में किसी के आंचल की छाव में हूं

जब खुली मेरी आंख तो जाना ये हमने
मैं लेटा हुआ अपनी मां के पांव में हूं

तेरी शक्सियत लफ़्ज़ों में बयान करना रेहान के लिए इतना आसान नहीं
बस इतनी आरजू है दे कर जहान की हर खुशी कुछ ऐसे बेटा होने का फर्ज निभाऊं

Mother day Shayari in Hinglish – Mother’s Day Poetry Special

Mother day Shayari in Hindi
Mother day Shayari in Hindi

Mother’s Poem – माँ शायरी – Mothers day Shayari poem

aaya tere baad main jahaan mein dua yahee hai tujhase pahale jaoon.
teree khvaahish ko teree hee dua se teree hathelee pe main sajaoon.

maan main bahut thak gaya hoon is duniya se ladate ladate,
jee mein aata hai sar rakh kar teree god mein mein so jaoon.

maan is javaanee ne kitana door kar diya mujhe teree kurabat se,
kabhee kabhee dil karata hai banake bachcha tere daaman mein phir se khil -khilaoon.

tere dam se hee to raushan ghar ka kona kona hai.
tujhe khona jaise jindagee ko khona hai.

ho subah meree tere chahare se har roj,
har shaam tere kadamon mein hee mit jaoon.

aaj aisa laga jaise main jannat se kisee gaanv mein hoon
tez dhoop mein kisee ke aanchal kee chhaav mein hoon

jab khulee meree aankh to jaana ye hamane
main leta hua apanee maan ke paanv mein hoon

teree shaksiyat lafzon mein bayaan karana
Rehaan ke lie itana aasaan nahin

bas itanee aarajoo hai de kar jahaan kee har khushee
kuchh aise beta hone ka pharj nibhaoon

Also Read Urdu Shayari for Love mothers day poem

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।

Follow us on Instagram