Gazal

Hindi Poetry | world’s best poetry | all time favorite hindi poetry.

0 0
Read Time:2 Minute, 46 Second

Hindi poetry | read this very emotional shayari this hindi poetry | all time favorite | Read Shushant Singh Rajput’s life’s poetry.

मरीज़-ए-इश्क़ का अच्छा खाशा मारा हूं।
दिल्लगी का सुकून, वफ़ा का खशारा हूं।

मेरी फितरत में नही खुद को बदलते रहना,
बदल जाऊं चाहें जितना सिर्फ तुम्हारा हूं।

जहमत कर हाथ दिल पे रखने की फिर देख,
हूं मुशाफिर के किसी दरिया का किनारा हूं।

अए मेरी चंचल सोख हसीना सुन तो सही,
दिलकश आंखो का दीवाना सारा का सारा हूं।

और भी नाम हैं मेरे हाल के सिवाए तुम्हारे,
मगर तुमसे ही हाल तुमसे ही गवारा हूं।

आ लग जा गले पलों को ना रोक बहने दे,
तू नजर-ए-मंज़र मैं तेरी नज़र का नज़ारा हूं।

हाथ में हाथ थाम के चलने की है आरज़ू,
मैं ही पहला इश्क़ तेरा मैं ही दोबारा हूं।

भूल जा जहान को बस कर कबूल तू मुझे,
मैं खुद कोई भुला भटका सा सितारा हूं।

बस एक मलाल है रेहान का उस रहबर से,
मैं ये नही कह सकता तेरे लिए उतारा हूं

hindi poetry
hindi poetry

Hindi poetry in Hinglish

Mareez-e-ishq ka accha khasha mara hoon
Dillagi ka sukuun hu wafa ka khasara hoon

Meri fitrat mein hai khud ko badalte rehna
Badal jaun chahe jitna sirf tumhara hoon

Zahemat kar hath dil pe rakhne ki phir dekh
Hun mushafir ke kisi dariya ka kinara hoon

Aye meri chancal sokh haseena sun to sahi
dilkash ankho ka deewana sara ka sara hoon

Aur bhi naam hain mere haal ke sivaye tum
Magar tumse he haal hai tumse he gawara hoon

Aa lag ja gale palo.n ko na rok bahene de
Tu meri nazro Ka main teri nazro ka nazara hoon

Hath mein hath tham ke chalne ki hai arzuu
Main he pehle Ishq tera main he doobara hoon

Bhul ja jaha.n ko bas kar qubuul tu mujhe
Main khud koi bhula bhatka sa sitara hoon

Bas ek malaal hai Rehaan Ka us rahebar se
Main ye nhi keh skta tere liye jami pe utara hoon

hindi poetry
hindi poetry

Also Read shero shayari

किसी सूफ़ी कलाम सी तेरी परछाई
ढलती हुई सी रात ने बात ख़राब कर दी।
जब मेरा मुंसिफ ही मेरा क़ातिल हो।
हमने भी बेशुमार पी है ! नज़रों के प्यालों से।
तेरे हुस्न की तस्वीरों का आखिर …
इंतेजाम सब कर लिए सोने के अब नींद भी आ जाये तो करम होगा।
जिसे बनना ही ना हो आख़िर हमसफ़र किसी का।
क्या सितम है के उन्हें नजरें मिलाना  भी  नही  आता। 
खयालों में तो रोज़ ही मिलते हो आके।

Follow us on Instagram

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

9 thoughts on “Hindi Poetry | world’s best poetry | all time favorite hindi poetry.

Leave a Reply

Your email address will not be published.